देहात भी अपना बच्चे भी अपने । मिल-जुल कर सवारें इनके सपने ॥ शुभेच्छु - सतीश राज देशवाल (मुख्य संरक्षक)